BaristasTV

Good Morning Images 2022

बृहस्पति का गोचर 2021: बृहस्पति का वक्री गोचर जून 2021: प्रभाव और राशियाँ और उपाय

बृहस्पति को सभी ग्रहों का गुरु माना जाता है। भारतीय ज्योतिष में भी बृहस्पति का विशेष महत्व है। भारतीय ज्योतिष के अनुसार बृहस्पति को ज्ञान, दर्शन, सद्भावना, धर्म, प्रसिद्धि, धन, विवाह का महत्वपूर्ण कारक माना जाता है। व्यक्ति के जीवन में होने वाले सभी शुभ कार्यों में बृहस्पति की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। बृहस्पति धनु और मीन राशि पर शासन करता है, वे कर्क राशि में उच्च के होते हैं और उन्हें मकर राशि में नीच माना जाता है। ज्योतिष में बृहस्पति के गोचर को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। रविवार 20 जून 2021 को बृहस्पति का गोचर 14 सितंबर 2021 तक कुंभ राशि में वक्री रहेगा। वक्री ग्रह अचानक और असामान्य रूप से अपना प्रभाव दिखाते हैं।
बृहस्पति के वक्री गोचर के कारण देश और दुनिया में राजनीतिक, प्राकृतिक, आर्थिक और सामाजिक बदलाव देखने को मिलेंगे। साथ ही यह गोचर सभी राशियों को अलग-अलग तरह से प्रभावित करेगा।
मेष राशि
गुरु के मेष राशि में गोचर से समय शुभ रहेगा। आय के नए स्रोत खुलेंगे, जिससे आपको धन लाभ होगा और आपकी आर्थिक स्थिति में स्थिरता आएगी। किसी पुराने कानूनी विवाद में आपकी जीत होने की संभावना है। मेष राशि के जो लोग प्रतियोगी परीक्षा के लिए प्रयास कर रहे थे, उन्हें सफलता मिलने की उम्मीद है। आप उच्च शिक्षा में भी प्रवेश ले सकेंगे। आप अपना पैसा भी शुभ कार्यों में लगाएंगे। लेकिन मातृ पक्ष से अशुभ समाचार मिल सकता है। आपको अपनी माता के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना होगा। वृषभ राशिफल:
वृषभ
गुरु का वृष राशि में गोचर शुभ फल देगा। आजीविका के नए साधन मिलने के योग बनेंगे। आप कोई नया प्रोजेक्ट भी शुरू कर सकते हैं, किसी वित्तीय संस्थान से धन मिलने की भी संभावना होगी या आप व्यवसाय के लिए कोई निवेशक ढूंढ़ने में सक्षम हो सकते हैं। वेतनभोगी लोग पदोन्नति की उम्मीद कर सकते हैं। आप किसी नए भवन या जमीन में निवेश करने की योजना भी बना सकते हैं। पिता का स्वास्थ्य ठीक रहने की संभावना रहेगी।
मिथुन राशि
बृहस्पति का मिथुन राशि में गोचर शुभ फल देगा। आपका ध्यान धर्म और अध्यात्म की ओर रहेगा। आपको सच्चा गुरु मिलने की भी संभावना होगी। किसी धार्मिक स्थल पर जाने की योजना बनेगी। भाग्य आपका साथ देगा। वेतनभोगी लोग पदोन्नति की उम्मीद कर सकते हैं। आप उच्च शिक्षा के लिए आवेदन करने की योजना भी बनाएंगे। आर्थिक स्थिति मजबूत होने के भी योग बनेंगे।
कैंसर
गुरु का कर्क राशि में गोचर मिले-जुले परिणाम देगा। आप कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेने में खुद को नहीं ढूंढ पाएंगे। आपको धैर्य रखना होगा। आपके अनावश्यक ख़र्चों में भी वृद्धि होने की संभावना है। आपको तेज गति से वाहन चलाने से बचना होगा। आपका झुकाव गूढ़ रहस्यों के ज्ञान की प्राप्ति की ओर रहेगा। आपको अपने व्यवसाय में नया निवेश करने से बचना होगा। लेकिन अच्छी खबर यह है कि आपको अपने बड़ों का आशीर्वाद मिलेगा।
लियो
बृहस्पति का सिंह राशि में गोचर शुभ फल देगा। आपके रुके हुए व्यवसाय और प्रोजेक्ट को फिर से शुरू करने की संभावना है। अविवाहित लोगों के विवाह में आ रही बाधाएं दूर होंगी। विवाहित जोड़ों के बीच तनाव कम होने के योग बनेंगे, जिससे पारिवारिक सुख में वृद्धि होगी। व्यापार में भागीदार के साथ चल रहे विवाद समाप्त होंगे, जिससे व्यापार में भी वृद्धि होगी। कोई नया व्यवसाय शुरू करने की योजना बनेगी।
कन्या
गुरु का कन्या राशि में गोचर शुभ फल देगा। कन्या राशि के जातकों को नई नौकरी मिलने की संभावना है। आप अपने कार्यस्थल पर अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम होंगे। आपके वैचारिक और व्यावसायिक शत्रु आपके नियंत्रण में रहेंगे। आप पुराने मुकदमे में भी जीत की उम्मीद कर सकते हैं। आपके पुराने कर्ज भी चुकाने की संभावना है। आपको अपने खान-पान पर नियंत्रण रखना होगा।
तुला
गुरु का तुला राशि में गोचर शुभ फल देगा। विद्यार्थी शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन करेंगे। अविवाहित लोगों को जीवनसाथी मिलने के योग हैं। प्रेमी युगल अपने रोमांटिक पलों का आनंद उठा पाएंगे। आपको अचानक धन/मुनाफा मिलने की भी उम्मीद कर सकते हैं। विवाहित जातक परिवार में नए बच्चे के आगमन की उम्मीद कर सकते हैं। वेतनभोगी लोग भी अपने करियर को बढ़ाने के लिए उच्च शिक्षा की योजना बना सकते हैं। आपके कुछ अटके हुए काम पूरे होने की भी संभावना रहेगी।
वृश्चिक
बृहस्पति का वृश्चिक राशि में गोचर मिले-जुले परिणाम देगा। नया घर खरीदने की योजना बनेगी। नया वाहन भी खरीद सकते हैं। आप अपने भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए रियल एस्टेट में निवेश करेंगे। आप शायद अधीर रहेंगे, इसलिए किसी महत्वपूर्ण दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने से पहले दस्तावेज़ को ठीक से पढ़ना आवश्यक होगा। आप अपने काम या रोजगार में वृद्धि के लिए अपने वर्तमान स्थान को बदलने की योजना भी बना सकते हैं। वेतनभोगी लोग पदोन्नति की उम्मीद कर सकते हैं।
धनुराशि
बृहस्पति का धनु राशि में गोचर शुभ फल देगा। आपके काम करने के तरीके में आत्मविश्वास रहेगा। आपको अपने प्रयासों में सफलता मिलने की भी संभावना है। आपके व्यापार नेटवर्क के बढ़ने की संभावना रहेगी। व्यवसाय में आपके कठिन निर्णयों में आपके सहकर्मी आपका साथ देंगे। आपके व्यवसाय से जुड़ी छोटी यात्राओं के योग बनेंगे। वेतनभोगी लोग स्थानांतरण की उम्मीद कर सकते हैं। भाई-बहनों के बीच के विवाद खत्म होंगे, जिससे परिवार में खुशियों का माहौल रहेगा।
मकर राशि
गुरु का मकर राशि में गोचर मिश्रित फल देगा। आय के नए स्रोत खुलेंगे। आप अपने फालतू के ख़र्चों पर नियंत्रण रखने में सक्षम होंगे। आपकी आर्थिक स्थिति में वृद्धि होने की संभावना रहेगी। परिवार में सुख शांति का माहौल रहेगा। आपको संवाद करने के तरीके पर नियंत्रण रखने की आवश्यकता होगी, आपके बात करने के तरीके में अहंकार और अशिष्टता होगी, जिससे आपके सम्मान में कमी आ सकती है। आपको अपने खाने-पीने की आदतों पर भी नियंत्रण रखना होगा।
कुंभ राशि
गुरु का कुम्भ राशि में गोचर शुभ फल देगा। आप कोई नया प्रोजेक्ट शुरू करेंगे। आप अपने पारिवारिक व्यवसाय में निवेश करने की योजना बनाएंगे। आप अपने पारिवारिक व्यवसाय में भी बड़े ऑर्डर की उम्मीद करेंगे। अविवाहित लोगों के विवाह में आ रही बाधाएं दूर होंगी। विवाहित जोड़ों के बीच तनाव कम होने के योग बनेंगे, जिससे पारिवारिक सुख में वृद्धि होगी। आपकी आय के नए स्रोत भी खुलेंगे, जिससे आपकी आर्थिक स्थिति में वृद्धि होगी।
मछली
गुरु का मीन राशि में गोचर मिश्रित फल देगा। चल सामान और अचल संपत्ति खरीदने के लिए आप पैसा खर्च करेंगे। आप शायद अधीर रहेंगे, इसलिए किसी महत्वपूर्ण दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने से पहले दस्तावेज़ को ठीक से पढ़ना आवश्यक होगा। आपकी वर्तमान नौकरी में अचानक स्थानांतरण की भी संभावना है। आप अपने शत्रुओं और विरोधियों को नियंत्रित करने में सक्षम होंगे। आपको रैश ड्राइविंग और जोखिम भरे साहसिक दौरों से बचने की आवश्यकता होगी। आध्यात्मिक लोगों को सच्चा ज्ञान प्राप्त होने की संभावना रहेगी।
उपाय और बृहस्पति देव की कृपा पाने के उपाय:
1. माथे पर रोजाना केसर का टीका लगाएं।
2. भगवान शिव को दूध में केसर या हल्दी मिलाकर चढ़ाएं।
3. श्री बृहस्पति सहस्रनाम स्तोत्र का जप करें।
4. अपने आसपास की माताओं, बहनों और मूल निवासियों का सम्मान करें।
5. शरारती व्यवहार से बचें।
6. ब्राह्मण और गुरु का सम्मान करें।
7. ब्राह्मण और गुरु का अपमान न करें।
8. गाय को हरा चारा खिलाएं।
9. माता-पिता का सम्मान करें और उनका ख्याल रखें।
लेखक, समीर जैन, जयपुर स्थित ज्योतिषी हैं, जो ज्योतिष, अंकशास्त्र, हस्तरेखा और वास्तु के विशेषज्ञ हैं। वह जैन मंदिर वास्तु और जैन ज्योतिष के विशेषज्ञ भी हैं। पिछले कई वर्षों में, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील, मैक्सिको, कनाडा, यूके, ऑस्ट्रेलिया, तुर्की, फ्रांस, इटली, दक्षिण अफ्रीका और जर्मनी के ग्राहकों से परामर्श किया है।


[ad_1]

[ad_2]

x